Banner इंपेक्स

राजनयिक/मानवीय आधार पर गैर-बासमती चावल और गेहूं का निर्यात

  • वर्ष 2011-12 में अफगानिस्तान को 2.50 लाख टन गेहूं दान के रूप में निर्यात करने की अनुमति दी गई है, जिसे फरवरी, 2014 तक पूरा किया जा चुका है।
  • फरवरी, 2012 में सरकार ने विश्वू खाद्य कार्यक्रम के माध्यरम से यमन को 10 करोड़ रुपए मूल्य के खाद्यान्न, मुख्य रूप से चावल के प्रावधान के माध्यम से मानवीय सहायता अनुमोदित की थी। विश्वा खाद्य कार्यक्रम ढुलाई, लदान, यमन में स्थानीय परिवहन, भंडारण और वितरण की लागत सहित 10 करोड़ रुपए की राशि के भीतर यमन को लगभग 2650 टन आपूर्ति करने पर सहमत हुआ था। भारतीय खाद्य निगम के केंद्रीय पूल के स्टॉक से 2447.702 टन गैर-बासमती चावल यमन गणराज्य को निर्यात हेतु विश्व् खाद्य कार्यक्रम को सुपुर्द किया गया था ।
  • भारतीय खाद्य निगम के स्टॉक से खरीदकर जिम्बाब्वे और लेसोथो प्रत्येक को 500 टन चावल मानवीय सहायता के रूप में दान करने के लिए वर्ष 2014-15 में निर्णय लिया गया है।
शीर्ष पर वापस जाएँ